शुक्रवार, 7 मई 2010

मुस्लिम बहुल इलाको में ही दंगे क्यों होते है

देश में अब तक जहा भी दंगे प्रसाद हुए है ज्यादातर मुस्लिम बहुल क्षेत्रो में ही हुए  है . हम ज्यादा दूर जाए तो हम पायेंगे बटवारे के दोरान भी पंजाब  , सिंध , बलूचिस्तान से ही शुरुआत हुई थी . जो वर्तमान में इस्लामिक राष्ट्र है . और वर्तमान में भी स्थिति कुछ एसी ही है बरेली और हद्राबाद के दंगे कुछ एसा ही दर्शाते है . कुछ लोग कहते है हिन्दू बहुल क्षेत्रो में मुस्लिम से भेद - भाव होता है उन्हें बेवजह तंग किया जाता है क्या यह बात सच है . अगर एसा होता तो क्या हरियाणा , महाराष्ट्र ,मध्य प्रदेश ,  राजस्थान जैसे राज्यों में मुसलमानों की जनसंख्या इतनी बढ़ सकती . आज भी बहुत से मुसलमान यह मानते है की हिन्दुस्तान में पाकिस्तान के मुकाबले मुस्लिम ज्यादा खुशहाल और सम्पन्न है . फिर एसा क्यों होता है की जनसंख्या बढ़ने प़र दंगे शुरू हो जाते है हिन्दुओ को खदेड़ा जाता है जब की आज जहा जिस भी राज्य , शहर अथवा गाव में मुसलमानों की आबादी ५ % भी नही है वहा भी मुसलमानों को किसी प्रकार की कोई तकलीफ नही है . मुसलमान अच्छी  तरह से अपने बीवी बच्चो का पालन पोषण कर रहे है और खुशहाल भी है . लेकिन ध्र्मान्तर्ण के जरिये मत परिवर्तन  होने प़र ही दंगे शुरू हो जाते है क्या यह हिन्दुओ के साथ अत्याचार नही है या यह हमारी सहिष्णुता का गलत फायदा है . मै सभी मुसलामनो का विरोध नही करता लेकिन इतना जरुर समझता हूँ जो मुसलमान राष्ट्रवाद की बाते करते है और मानवता को भली - भाति समझते है उनकी आवाजो को भी कट्टरपंथियों  द्वारा दबा दिया जाता है . और कुछ एसे भी होते है जो मत परिवर्तन प़र अपने सुर ही बदल देते है और आक्रामक रूप अख्तियार कर लेते है . शान्ति का सन्देश इस्लाम भले ही देता हो लेकिन मुस्लिम बहुल इलाको में शान्ति क्यों नही टिकती क्यों पाकिस्तानी झंडे लहराए जाते है क्यों घरो दुकानों में आग लगा दी जाती है जैसा की बरेली में हुआ . और तब वे लोग इस सब को बंद करने की अपील तक नही करते फिर क्यों  बार - बार मुसलमानों प़र अत्याचार की बाते करते है आखिर  क्यों होता है एसा . क्या उनका मकसद यही होता है

10 टिप्‍पणियां:

  1. dos unaka nahi
    mulayam
    amar
    kangres
    phandoo dharmnirpech lekhako(kuldeep naiyar ,arundhati ray)
    digvijyo,laluoo
    v hamara bhi hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. हिन्दू मोहल्लों में रहने वाले मुस्लिमों और मुस्लिम मोहल्लों में रहने वाले हिन्दुओं के बीच एक सर्वे करवा लिया जाये, स्थिति साफ़ हो जायेगी कि जब और जहाँ भी मुस्लिम बहुमत में आते हैं, वहीं अलगाववाद, शरीयत की माँग आदि बातें शुरु हो जाती है

    उत्तर देंहटाएं
  3. दंगा फसाद करने की हिदायत खुद कुरआन में दी गयी है.उसमे यहाँ तक कहा गया है अगर तुम नमाज़ पढो तो इस तरह से पढो ,जिस से दूसरों ,काफिर्ण को कष्ट हो
    तुज़क्किरू लिल्लाह कसीरह ,लौ करिहल काफिरीन

    उत्तर देंहटाएं
  4. kuraan ke aadesh ka paalan karna unka dharm hai.uske anusar gair muslimo ko pareshaan karna unka dharm hai.jis desh mein khate peete rahte ho usi desh se gaddari karna unka dharm hai.jis desh mein hijdo ka raaj ho us desh mein ye nahi hoga to kya hoga?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अरे भाई गद्दार तो तुम मालूम पड रहे हो जो अपनें ही देश के लोगों के बारे में जो मुंह अाया बोले जा रहे हो

      हटाएं
  5. Ye tum sub milkar is tarha ki baate karke kya ye sabit karna chahte ho k tum sant aour sabhy ho. To mai batadu ki tum jaise logo ki vajah se hi aaj ye mahil bana hua he.tum musalman virodhi nahi ho. Balke desh virodhi ho

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये देस हम मुसलमानों का भी हे कोइ एक कोम इसपर हक नही जमा शक्ति ..i love mi india

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेनामीजून 07, 2014 1:00 am

    इस भारत की मिट्टी मे हमारे भी पूरवजो का खून है ..
    ओर हमारा भी वक्त आने पर लगा देगें ..!!"
    क्योकीं भारत कीसे क् बाप का नही है...""""

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेनामीजून 07, 2014 1:02 am

    इस भारत की मिट्टी मे हमारे भी पूरवजो का खून है ..
    ओर हमारा भी वक्त आने पर लगा देगें ..!!"
    क्योकीं भारत कीसे क् बाप का नही है...""""
    मुसलीम .......boys......

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे