शनिवार, 13 फ़रवरी 2010

अमन की आशा '''''''' fuuuuuuuuuusssssssssssss '

२६ - ११ के बाद एक बार फिर से भारत प़र बड़ा हमला हुआ है इस बार निशाने प़र सिर्फ और सिर्फ भारत ही था  . कई न्यूज़ चैनल कहते है यहूदियों का पूजा सथल निशाना था लेकिन पूजा सथल किसी और देश में नही भारत में ही तो था . कुछ विदेशियों को आतंकियों का निशाना बताते है लेकिन वह  भी तो भारत में हमारे मेहमान ही है . कुछ ही दिन पहले आतंकियों ने बड़ी रैली की लाहोर में जिसमे खुलम - खुल्ला भारत प़र हमले की चेतावनी दी गयी थी . और हुआ भी वैसा ही . और इसी बीच निकली एक आशा '  अमन की आशा ' . और तुरंत ही फूस साबित भी हो गयी होना ही था . पाक के साथ दोस्ती अथवा मधुर सम्बन्ध ठीक उसी तरह है किसी पागल कुत्ते के गले में रस्सी बांधकर उससे लाड प्यार करने के बराबर . क्यों की पाक की हालात भी उसी पागल की तरह है जिसे हम कितना भी प्यार दे वह हमे काटेगा ही . उसका हमारे हरियाणा में तो एक ही इलाज़ होता है ' लठो से पीटकर मारना ' . ठीक है हम लोग दयालु है लेकिन दया की हद्द हो गयी है अब क्या हमने मार खाने का ठेका ले रखा है . होना तो ये चाहिए की पाक हमारे पैरो में गिरकर माफ़ी मांगे लेकिन जो हो रहा है वह दुनिया की नजर में हमे कमजोर साबित कर रहा है . हम इतिहास से सिख भले ले अथवा नही वर्तमान से तो सिख ले . पाक प़र हमें सिर्फ और सिर्फ हमला करना चाहिए ' आर या पार  ' . कोई बात नही  केवल हमला बारूद का जवाब बारूद से हर एक जख्म का जवाब देना चाहिए . कोई आशा की तरंग नही फूटनी चाहिए  ' इनफ इज इनफ

4 टिप्‍पणियां:

  1. जब तक यह नकली धर्मनिरपेक्षता का मुखौटा लगा रहेगा, लोग यूं ही मरते रहेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  2. aapke vicharo se poorntay sahmat hoo aam admi bar bar mare isse se baehtar to ek bar pakistan par hamla hi sahi hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे भैया हम इज़राइल नहीं हैं… "गाँधी" के देश हैं… :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब आपके बीच आ चूका है ब्लॉग जगत का नया अवतार www.apnivani.com
    आप अपना एकाउंट बना कर अपने ब्लॉग, फोटो, विडियो, ऑडियो, टिप्पड़ी लोगो के बीच शेयर कर सकते हैं !
    इसके साथ ही www.apnivani.com पहली हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट है| जन्हा आपको प्रोफाइल बनाने की सारी सुविधाएँ मिलेंगी!

    धनयवाद
    www.apnivani.com

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे