शनिवार, 8 मई 2010

विस्फोटको के ढेर प़र भारत

अभी - अभी खबर मिल रही है अमृतसर में विस्फोट से लदी  एक कार पकड़ी है . और बमों को डिफुज़ की करवाई चल रही है . यह आतंक की साजिश है अधिकारियों का मानना है . लेकिन एसी साज़िशे रोज हो रही है कभी बंगलूर तो कभी डेल्ही , मुंबई हर जगह बम मिलने की खबरे आती है कभी अफवाहे आती है . लेकिन अफवाह हो या घटना एक बात तय है भारतीय आज बारूद के ढेर प़र बैठे है और एक डर की जिन्दगी जीने को मजबूर है . रोज - रोज के आतंकी साजिशो और अफवाहों ने भारतीयों को बहुत ही डरा सा सहमा सा दिया है . क्या ये सब यु ही चलता रहेगा हम यु ही डर - डर कर जीते रहेंगे . आखिर ये आतंकवादी हमारी धरती में घुसकर कैसे अपनी साजिशो को अंजाम दे जाते है अगर दे जाते है तो इन प़र कारवाई क्यों नही होती . जब तक इनकी कारवाइयो का जवाब हम मुहतोड़ नही देंगे तब तक भारतीय समाज में डर की भावना पनपती रहेगी . हम एक आजाद देश के नागरिक है हमारे पास बेहतरीन सेना है सेना के पास हथियार है फिर भी हम डर के जीने को मजबूर है . . आखिर इन आतंकवादियों का मुह क्यों नही तोड़ा जाता हम आज अपनी ही जमीन प़र अपने लोगो का लहू बहता देख रहे है  . बड़े शहरो में ट्रेनों प़र जाने से डर , भीड़ भाड़ वाले इलाको में जाने प़र डर , दहशरा दिवाली जैसे त्यौहार मनाने में भी डर हर जगह डर ही डर . कब तक हम विस्फोट के ढेर प़र बठे रहेंगे और उस ढेर प़र क्या हम सुरक्षित है . आतंकवादियों की धमकियों से अलर्ट जारी हो जाते है रेड अलर्ट , हाई अलर्ट . लेकिन उन प़र विस्फोटो से पहले देश के नागरिको का खून बहने से पहले कारवाई क्यों नही होती . कब तक किस्तों में सास लेते रहेंगे हम कब तक सरकारे मुआवजों से जख्मो को भरती रहेगी . क्या भारतीय नागरिको की कीमत पैसो से ज्यादा कुछ नही है आतंक का शिकार बनो और मुआवजा लो नोकरी लो . और बहुल जाओ सब कुछ फिर से कोई हमला झेलने को तैयार रहो .

1 टिप्पणी:

  1. sir abhi jaane kya kya hona baki hai...ho na ho sab andar ke gaddaron ka kiya dhara hota hai...varna bhikhariyon me itni himmat kahan

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे