गुरुवार, 1 अप्रैल 2010

भारत का एक तबका बच्चा एक ही अच्छा की राह प़र

टीवी प़र प्रचार किया जाता रहा है एक लडका एक लड़की . हम दो हमारे दो एसा परचार बसों प़र ऑटो प़र टीवी प़र ऐड के द्वारा किया जाता रहा है . इस परचार से काफी कुछ सिखा है भारतीयों ने . आज भारतीय परिवार एक लड़का लड़की हम दो हमारे दो की राह प़र चल पड़े है जो देशहित के लिये जरूरी है . इससे बढ़ रही जनसंख्या नियन्त्रण में होगी . लेकिन कुछ लोग एसे भी है जो आज भी २ नही चार नही छः  या १० बच्चे पैदा कर रहे है देश की जनसंख्या पहले ही एक सो बीस करोड़ तक पहुच चुकी है . लेकिन आज भी भारत में बहुत से लोग ८ , ८ बचे पैदा कर जनसंख्या और बेरोजगारी को बढ़ा रहे है जो की चिंता का विषय  है . टीवी प़र भी परचार किये जाते है लेकिन बहुत से लोग इन पर्चारो इन देश से जुड़े मुद्दों का या तो विरोध में है या वह अपने जीवन में इन बातो को उतार नही पा रहे है . अगर भारत को जनसँख्या नियन्त्रण करना है तो सख्त नियम लागु करने होंगे

3 टिप्‍पणियां:

  1. देश को प्रगति के पथ पर ले जाने के लिए जनसंख्‍या को बढने से बचाने और इसके लिए परिवार नियोजन आवश्‍यक है !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक लेख सुजननिकी पर भी लिखिए.

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे