गुरुवार, 31 दिसंबर 2009

कारण जो भी हो लेकिन बड़ी भयानक होती है गरीबी



गरीबी बहुत ही भयानक सच है जिंदगी का . और एक जहर की तरह होती है गरीबी वो जहर जो न तो मरने देता है और न ही जीने . परिस्थिया एसी बन जाती है की इन्सान न चाहकर भी कुछ एसा करने को मजबूर हो जाता है जो किसी भी इन्सान के उसूलो के खिलाफ हो . क्यों आती है गरीबी क्या पिछले जन्मो के पापो से या फिर अनपढ़ता कारण है इसका . कारण जो भी हो लेकिन बड़ी भयानक  होती है गरीबी . कल रात कलर्स पर एक सेरियल देखा तब से मुझे भोत देर नींद नही आई . सोचता रहा एक तरफ तो हम लोगो में से ही बहुत से लोग केवल नाम के लिए करोड़ो रुपयों से dharmshalaye  बनवाते है .और उन्ही के ही भाई बंधुओ के घर पर बहन बेटियों को इज्ज़त तक का सोदा करना पड़ रहा है . यह सच्चाई भारत की है लेकिन कड़वी भी और सच्ची भी .नक्कू शाहा के साथ भी एसा है कुछ हो रहा है . एसे सीरियल हर आम खास की आंख खोल देते है लेकिन कुछ लोग इसे एक नाटक की तरह लेते है और कुछ लोग १ मिनट आसूं बहा के फ़र्ज़ निभा देते है . इस देश में किसी के पास १०० . १०० एकड़ जमीन है और किसी के पास एक वक्त की रोटी के लाले . जब भी हम किसी गाड़ी या बस  पर सफ़र कर रहे होते है भिखारी या झोपडियों को देखकर अपने सिस्टम को कोसते है . लेकिन ख़ुद के अन्दर झांक कर कोई नही देखता . जाती के नाम पर बहुत से संगठन बन जाते है लेकिन गरीबी को मिटाने या किसी गरीब को सहारा देने के लिए कुछ नही है हमारे पास . इतनी गरीबी न तो कोई एक आदमी मिटा सकता है और न ही  कोई एक सरकार . अब पहल कोन करे . आज नया साल है रात में ही मेरे कसबे के कई युवा चंडीगढ़ कोई गोवा और कोई .लेकिन मेरे ही कसबे में कुछ लोग एसे भी होंगे जिनके लिए आज भी वही  शुक्रवार है . कारण जिंदगी से संघर्ष बाहरी दुनिया की किसे खबर कारण गरीबी . लेकिन बनाओ धर्म्शालाये मनाओ ; हैप्पी न्यू इयर '

1 टिप्पणी:

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे