रविवार, 27 दिसंबर 2009

अपनी ख़ुशी से कोई कम खुश होता है

अपनी ख़ुशी से कोई कम खुश होता है 
दुसरो  की ख़ुशी से उसे गम होता है
दर्द जब होता है  उसका मर्ज़ नही  होता है
जब दुसरो को दर्द हो तो वही मर्ज़ होता है
                                                               इसे उसकी फितरत कहु या उसकी मजबूती
                                                               बार बार जख्म हमें देकर वह खुश होता है
                                                               घर में आग लगे तो भी वह कही और आग लगाता है
                                                            बजाय अपनी आग भुजाने के घर वो किसी और के जलाता है
                                             
                                               कभी ताज तो कभी डेल्ही को वो दहलाता है
                                                 कभी कश्मीर को वो अपना बताता है
                                            न घर को कभी वह दुश्मनों से बचाता है
                                       दोस्त की पीठ तलवार डाल कर जख्म वह दे जाता है
                                                                               
                                                                           
                                                              
                                                                             टुकड़े कर के भी वह शांत नही बैठा है
                                                                             घर की आग न भुजाकर वो आग यहा लगाता है
                                                                             अपनी ख़ुशी से कोई कम खुश होता है




                                                                                    दुसरो की ख़ुशी से उसे गम होता
                                               

पहली बार कुछ कविता की तरह ब्लॉग पर लिखा है हो सकता है कुछ गलतियाँ हो आप का साथ मिला तो शायद अगली बार इससे अच्छा लिख सकू

2 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही अच्छा लिखा है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अपनी ख़ुशी से कोई कम खुश होता है
    दुसरो की ख़ुशी से उसे गम होता है
    दर्द जब होता है उसका मर्ज़ नही होता है
    जब दुसरो को दर्द हो तो वही मर्ज़ होता है

    अच्छा लिखा है ...... कुछ पड़ोसी ऐसे होते हैं ...........

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे