रविवार, 6 दिसंबर 2009

गुलामी से निकलकर हो आजाद भारत

भारत जो अब बन रहा है इंडिया । हमारे देश का नाम प्रचीन काल से ही भारत रहा है । किंतु आज से २०० साल पहले जब अंग्रेज भारत आए तो उन्होंने इसे एक अलग नाम दिया । वह नाम था इंडिया । और इस तरह से भारत की जगह कुछ लोग हमारे देश को इंडिया कहने लगे । अंग्रेजो से भारतीयों ने आजादी तो पा ली । लेकिन मानसिक तोर पर आज भी गुलाम है । इंडिया को हम एक थोपा हुआ नाम कह सकते है । यह नाम उन्ही ने हमें दिया था । गुलाम तो बहुत देश हुए पर किसी ने अपनी पहचान नही बदली । भारत को भारत वर्ष आदिकाल से कहा जाता है । जब भी कोई भी भारतीय videsh जाता है तो भारत की जगह इंडिया शब्द पर्योग किया जाता है । लेकिन अमेरिका का कोई भी बड़ा नेता या कोई आम आदमी चाहे दुनिया के किसी भी भाग में हो अमेरिका शब्द ही पर्योग करता है । इसी parkar पाकिस्तान , chin , japan , afaganistan कोई भी देश हो ये अपने नाम से ही pukare jate है ।
इंडिया नाम देश को अंग्रेजो ने दिया था । जब हम गुलाम थे लेकिन आज भारत आजाद है इसलिए एक आजाद देश की पहचान उसी की होनी चाहिए । क्या भारत छोटा देश है जो hamaare देश को नाम भी videshi ही दे । भारत sadiyo से sone की chidiya rha है or इतने videshi hamlo or गुलामी के bad भी भारत sone की chiriya है । भारत ने अपनी sanskrity को अब भी bachakar रखा है । लेकिन कुछ salo से bhart me दो vichardharaye बन rhi है एक वो लोग है जो इंडिया me jee rhe है or एक वो जो भारत me । किंतु मेरा भारत to उन pavitr nadiyo me है jinhe माता kehkar पुकारा jata है । हमारे देश की yhi sanskrity hame सबसे अलग or mahan banati है । hame अपनी पहचान को nhi bhoolna चाहिए । तभी भारत vishvguru बनेगा savsth भारत

1 टिप्पणी:

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे