सोमवार, 11 जनवरी 2010

क्या इसे एक अछि खबर मानकर इसका स्वागत किया जाये

प्रोपर्टी बाज़ार में छा  गयी है मासूमी . कुछ माह पहले जो जमीन २००० रूपए गज रातो रत बिक जाती थी उसे अब कोई ८००  सो रूपए गज नही खरीद रहा . प्रोपर्टी डीलरों  ने पिछले कई सालो से खूब चाँदी कुटी . लाखो रूपए कामके ख़ुद को साधन सम्पन्न किया . प्रोपर्टी डीलरों ने एसा ताना बना बुना की आम आदमी  के बस से पर हो गया था पलट या किसी भी तरह की जमीन लेना . एक और प्राणी था जिसकी जमीन से सोना दे रही थी जमीदार . कुछ जमीदारों ने खेती को छोड़ प्रोपर्टी का धंधा  शुरू कर दिया था . लेकिन अब सभी मायूस है लेकिन एक आदमी है जो इस खेल को देखकर मन को तोड़ कर बैठा रहा . वह था आम आदमी जिसे घर बनाने के लिए जमीन चाहिए थी लेकिन महंगी जमीन को वह खरीद नही सकता . प्रोपर्टी में मंदी छाने से घर का सपना साकार होगा . क्या वह घर बना सकेगा अगर जमीन के भाव असमान न चुक्र जमीन पर आये तो घर का सपना साकार हो सकता है तो क्या इसे एक अछि खबर मानकर इसका स्वागत किया जाये

2 टिप्‍पणियां:

  1. aam insan sabhi ki takleefo ko samjhta hai lekin bade admi nhi samjhte

    उत्तर देंहटाएं
  2. आम आदमी के लिए तो शुभ समाचार ही कहलाया.

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे