मंगलवार, 5 जनवरी 2010

हिन्दुओ के महान गुरु गोबिंद सिंग जी

हिन्दुओ के महान गुरु गोबिंद  सिंग जी की  kurbaaniyaa   समस्त   सनात्म्धर्मि  कभी नही भूल पाएंगे .उस समय औरंगजेब जैसा जालिम बादशाह दिल्ली के तख्त पर बैठा हुआ था। उसके आतंक से लोगों को राहत देने के लिए तथा हिंदू धर्म की रक्षा के लिए जिस महान पुरुष ने अपने शीष की कुरबानी दी, ऐसे सिक्खों के नवें गुरु गुरु तेग बहादुर के घर में सिक्खों के दसवें और अंतिम गुरु गोबिंद सिंह का जन्म हुआ था। सनात्म्धर्मियो की रक्षा के लिए ही उन्होंने अपने पुत्रो और ख़ुद की क़ुरबानी दी . उन्होंने सभी वर्गों को एक सूत्र में पिरो दिया जिससे सभी में जोश भर गया .युद्ध को शत्रियो  तक सिमित न रखकर सभी तबको को शामिल किया .
सभी देशवासियों को गुरु गोबिंद सिंह जी की जयंती मुबारक शुभकामनाये .
जय बाबा मुंगीपा . जय श्री राम

2 टिप्‍पणियां:

  1. शत शत नमन, आज अगर हिन्दू जिन्दा है सिर्फ और सिर्फ गुरुगोविंद जी की वजह से

    उत्तर देंहटाएं
  2. mera bhi koti koti naman.
    hindi mein likha kintu copy paste nahi kar pa rahi.
    ghughutibasuti

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे