शनिवार, 2 जनवरी 2010

हमने खुदी अपनी पहचान मिटा दी

खो गयी कहा
बची किसमे है  यहाँ
इमानदार है कहा 
देशभक्त कोन है यहाँ
                             बईमान ९० मिल जायंगे यहाँ
                            पर है इमान नही बचा यहा
                            सच को तलाशती है नज़रे तेरी
                           पर सच्चा कोन बचा यहाँ
     सफ़ेद कुर्तो में भी झूठ
    कालो में भी झूठ
     बिक गया हर कोई
     देशभक्त रहा कहा    
                                          कोन करता है अब तप
                                          कोन लेता है समाधी
                                          कोन यहाँ है ज्ञानी
                                          हमने खुदी अपनी पहचान मिटा दी
                                                                    

2 टिप्‍पणियां:

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे