मंगलवार, 12 जनवरी 2010

कैसे पैदा होंगे कर्ण , भीम , बलि , हनुमान जी जैसे वीर

भारत हमेशा से वीरो की धरती रहा है और यहाँ का खाना भी सभी से अलग और सवच्छ रहा है . तभी तो पुरानी पीढ़ी १२० साल या १०० साल तक जीती थी . उनके सवच्छ रहने और लम्बी उम्र तक जीने के कई कारण हो सकते है . खाना तो था ही और पैदल चलना भी हो सकता है . और एक कारण यह भी हो सकता है पहले फसलो में दवाइयों का प्रयोग नही किया जाता था . लेकिन आजकल सभी सब्जिया या अनाज सभी तरह की फसलो में दवाओ का पर्योग हो रहा है इसे शायद इन्सान की भूख कहा जाये जो अब ज्यादा का इरादा रखता है . यानि अब हम अपने खाने में भी दवा का सेवन करते है . पहले दूध हुआ करता था असली लेकिन अब शहर हो या गाव सभी जगह नकली दूध बिकता है अगर असली मिला तो पानी ज्यादा मिला होगा . बच्चा पैदा होने पर भी नकली दूध पिता है और बड़ा होने पर भी यानि अब हड्डियों का चिरहर्ण बचपन से ही शुरू हो जाता है . आज से कुछ ही साल पहले भारत का खाना दूध दही घी का होता था पंजाब में मक्के की रोटी और हरियाणा में बाजरे के रोट लस्सी लेकिन अब आधुनिक होती दुनिया में पिज्जा , डोसा , isekrim , चौमिन यानि सभी राज्यों में अंग्रेजी चयनिस खाने की लत पड़ चुकी है . वीरो की धरती पर खोखले होंगे शरीर हमारे . कैसे पैदा होंगे कर्ण , भीम , बलि , हनुमान जी जैसे वीर .राजस्थान ,महाराष्ट्र ,up ,बिहार कोई भी नही बचा देसी सभी हो रहे अब विदेशी . वैसे इस तरह की बातो से पता चलता है हम क्यों गुलाम होते है क्यों की हम अपनी संस्कृति भूल दुसरो की वेशभूषा धारण करते है

3 टिप्‍पणियां:

  1. हम बदलाव चाहते है हमें पिज्जा से भूख मिटाना अच्छा लगता है . सेहत से बेहतर जीभ का स्वाद होता

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे