मंगलवार, 3 जनवरी 2012

इस्लामिक कट्टरपंथ से निपटने के उपाय

आज जिस तेज़ी से इस्लामिक कट्टरपंथ बढ़ रहा है जिस तरह से मुसलमानों को काफिरों (अन्य धर्मो ) के प्रति बरगलाया जा रहा है उससे निपटने के इंतज़ाम भारत की जनता को करने होंगे नही तो इस देश में जगह -जगह हर प्रान्त हर गाव शहर में काश्मीर जैसी स्थिति उत्पन्न हो जायेगी और गैर मुसलमानों का रहना अत्यंत कठिन हो जाएगा . कुछ उपाय है जो भारत की जनता सवयम संघठित होकर करे तो  धर्मंत्र्ण की समस्या से भी निजात पायी जा सकती है और हिंदुत्व की रक्षा भी हो सकती है .
१ जागरूक ब्लोग्गर सम्मलेन हो जिसमे धर्मान्त्र्ण के मुद्दे पर आम जनता में जाग्रति लाइ जाए
२ हिन्दुओ में स्वाभिमान जगाया जाए जिससे हिन्दू अपनी संस्कृति से जुड़े और भारत माता की रक्षा के लिए आगे आये
३ हर शहर हर गाव में १ रुपया हर घर से प्रतिदिन लेकर गौशालाए बनाई जाए और जो दूध घी उनसे प्राप्त हो उसे गरीब परिवार में  दलित हो या सर्वण में निशुल्क बाता  (वितरित)किया जाए  
४ जिस तरह से अन्ना के आन्दोलन में लोग मोमबत्तिया और बैनर लेकर लोग सडको पर आये थे ठीक उसी तरह से धर्मान्त्र्ण  के खिलाफ धर्मान्त्र्ण को पर्तिबंध करने के लिए लोग सरकार से मांग करे लेकिन अहिंसा से
५  जातिवाद को जड़ से समाप्त करने के लिए गुरु बाल्मिक , रविदास गुरु जी जयंती धूमधाम से सर्वण लोग मनाये
६ भारतीय शिक्षा के प्रचार के लिए अधिक से अधिक गुरुकूल खोलने में सहयोग दिया जाए ताकि भारतीय शिक्षा और संस्कार भारत के लोगो भारत की जनता में जीवित रहे
७ किसी भी गलत फिल्म जो की असभ्य हो या फिर  कोमेडी सर्कस जैसे रीअल शो की तरह हो का विरोध अहिंसा से किया जाए ताकि भारत की जनता इन गाली गलोच वाले असभ्य सीरियल्स को न देखे
मेरा विशवास है की यदि भारत की जनता ब्लोग्गर्स , बुद्धिजीवी ,देशभक्त जिसे अपने देश की जरा सी भी फ़िक्र है वह लोग संघठित होकर इनमे से एक -एक कार्य भी कर ले तो भारत में धर्मंत्र्ण जैसी समस्या से निपटा जा सकता है और भारत को फिर से उन्नति की और ले जाया जा सकता है . 

5 टिप्‍पणियां:

  1. Shubhkamnayen .

    मोह्हबत में घायल वो भी है और मैं भी हूँ,
    वस्ल के लिए पागल वो भी है और मैं भी हूँ,
    तोड़ तो सकते हैं सारी बंदिशें ज़माने की,
    लेकिन घर की इज्जत वो भी है और मैं भी हूँ,

    {वस्ल = मिलन}

    "ब्लॉगर्स मीट वीकली
    (24) Happy New Year 2012":
    में आयें .
    आपको यहाँ कुछ नया और हट कर मिलेगा .

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'चुतियापंथी' की भी एक हद होती है मेरे भाई.

    उत्तर देंहटाएं
  3. 'चुतियापंथी' की भी एक हद होती है मेरे भाई.

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे