शनिवार, 5 नवंबर 2011

‘ .कुछ ब्लोग्गरो और मीडिया का लक्ष्य हिन्दुओ को बदनाम करना

आजकल मिडिया वाले और कुछ ब्लोग्गर हिन्दुओ को बदनाम करने की कोई खबर नही छोड़ते ,उन्हें लगता है बुराई तो केवल हिन्दुओ में ही है या फिर दुसरे धर्मो की बुराइया  को दिखाते समय उस पर कुछ लिखते समय उनकी कलम काप जाती है .चुकी हिन्दू सहनशील ,मानसिक रूप से गुलाम ,हद्द से ज्यादा सेकुलर होते है उन्हें निशाना बनाने में मीडिया और ब्लोग्गरो को कोई दिक्कत नही आती . वह जमकर अपनी लेखनी और कैमरे का जलवा दिखाते है वैसे सबसे आसान तरीका है टीआरपी बढाने का ” हिन्दुओ को बदनाम करना “.
ताज़ा बहस छड़ी है ओनर किलिंग पर इस बहस में अक्सर निशाने पर हरियाणा का एक ख़ास समुदाय रहता है जो की देशभक्त समुदाय .कुछ बुद्धिजीवी किस्म के लोग मानते है की ये समस्या हिन्दुओ ,खासकर हरियाणा में है . वैसे तो मै ओनर किलिंग को गलत मानता हूँ लेकिन जिस तरह से मीडिया हरियाणा और बाकी जगहों के हिन्दुओ को ओनर किलिंग के नाम पर दकियानूसी ,रुढ़िवादी बताता है उस पर बहुत गुस्सा आता है .चुकी ओनर किलिंग केवल हिन्दुओ में ही नही है ………..याद हो काश्मीर की रजनीश शर्मा वाली घटना जिसमे रजनीश शर्मा ने एक मुस्लिम लड़की से विवाह किया था लेकिन कत्त्र्पन्थियो ने उसे मोत के घाट उतार दिया अब उस खबर को लिखने की हिम्मत किसी ब्लोग्गर की हुई नही और न ही किसी मीडिया की . पिछले कुछ सालो से मीडिया ,बुद्धिजीवी ब्लोग्गर सभी हिन्दुओ के दुशमन नम्बर एक बन्ना चाहते है सभी की बस एक ही इच्छा है कैसे हिन्दुओ को बदनाम कर सेकुलरिज्म में नम्बर वन का खिताब हासिल किया जाए . पिछले दस सालो से जिस तरह से बार -बार गुजरात दंगे को मसाला -तड़का लगा के दिखाया जा रहा है वह भी हिन्दू समाज की छवि खराब करने का षड्यंत्र है उससे भी घटिया बात उस दंगे के बाद और पहले दंगो में कितने ही हिन्दुओ ने अपनी जान -जमीन गवाई वह तस्वीर आजतक देश के सामने नही आई कारण मीडिया की दोगली और झूठी धर्मनिरपेक्षता .कभी हिन्दू त्योहारों को रुढ़िवादी ,पुराना ,अधविश्वास बताकर हिन्दुओ को बहकाया जाता है तो कभी हिन्दुओ पर नारी का सम्मान न करने का झूठा आरोप मढा जाता है . ऐसे ब्लोग्गर और मीडिया का एक ही लक्ष्य है हिन्दू समाज की नई पीढ़ी की नजरो में हिन्दू संस्कृति के पर्ती नफरत पैदा करना जिससे नई पीढ़ी अपने देश की जड़ो से कट जाए उसे हिन्दू धर्म में केवल बुराई ही नजर आये .चुकी यदि भारत का बहुसंख्यक वर्ग (खासकर युवा ) हिन्दू धर्म की अच्छाइयो  को जान लेगा तो वह भी राष्ट्रवादी हो जाएगा एसा अमेरिकी परस्त मीडिया कभी होने नही देना चाहता  . तभी हिन्दुओ को बार - बार यह  ...................................................                                                                                                                                                                                          अमेरिकी परस्त मीडिया रुढ़िवादी ,अन्धविश्वासी ,बर्बर बताने की कोशिश में लगा हुआ है चुकी उसे एसा लगता है एसा करने से हिन्दू हमेशा सोए रहेंगे . हिन्दू जाग्रति इस देश में वे होने नही देना चाहते तभी युवाओं को हिन्दुओ की बुराइया दिखा -दिखाकर हिन्दू धर्म के प्रति नफरत फ़ैलाने का प्रयास कर रहे है उससे भी दुःख की बात की सवतन्त्र ब्लोग्गर भी उन्ही का सहयोग कर रहे है . हर इंसान जो सेकुलरिज्म में अव्वल अंक प्राप्त करना चाहता है वह हिन्दुओ को बदनाम करने का कोई  मोका नही छोड़ता तभी आज का युवा भी सोचने लगा है की ‘ हिन्दू ही बुरे होते है ‘उसके दिमाघ में भी यह धरना पैदा होने लगी है लगता है  कुछ ब्लोग्गरो और मीडिया  का लक्ष्य हिन्दुओ को बदनाम करना  सफल हो रहा है .

1 टिप्पणी:

  1. जिन्हें भौंकना है वह भौंकता रहे हिन्दू धर्म का तो कुछ बिगड़ने वाला नहीं|

    Gyan Darpan

    उत्तर देंहटाएं

हर टिपण्णी के पीछे छुपी होती है कोई सोच नया मुद्दा आपकी टिपण्णी गलतियों को बताती है और एक नया मुद्दा भी देती है जिससे एक लेख को विस्तार दिया जा सकता है कृपया टिपण्णी दे